रिश्वत लेते धराये तहसील दार लोकायुक्त टीम ने की कार्यवाही

By: Ravikant Upadhyay   26 November, 2015

गंजबासौदा – ग्राम सलोई के गरीव किसान प्रवीण रघुवंशी के जमीन के बंटवारे के मामले में लोकायुक्त टीम ने रिश्वत लेने के आरोपी बनाये गए स्थानीय तहसील दार बी .के .मन्दोरिया के खिलाफ आज कड़ी कार्यवाही की . प्राप्त जानकारी के अनुसार पिछले लगभग पांच -छह महीने से प्रवीण रघुवंशी कार्यालय एवं पटवारी एवं तहसीलदार के चक्कर लगा रहा था लेकिन बिना लेन देन के उसका काम अटक रहा था , प्रवीण के अनुसार अधिकारी उस से पटवारी तथा दलाल ओमकार रघुवंशी के माध्यम से ५०,००० रूपये की रिश्वत मांग रहा था , ये बातें उसने सवूत के तौर पर पेश करने हेतु रिकॉर्डिंग भी कर ली थी ,अंततः परेशान फरियादी ने अपनी माली गरीव हालत के चलते १२,००० रूपये की पेशकश भी की थी लेकिन उसे कामयावी नहीं मिली , फिर उसने अपनी परेशानी भोपाल जाकर लोकायुक्त के अधिकारियों को बताई , बहां से मिले मार्ग दर्शन के अनुसार आज दोपहर करीव २-३० वजे प्रवीण सिंह रघुवंशी दलाल ओमकार सिंह रघुवंशी के माध्यम से पैसा देने पहुँच गया , दलाल पैसे देने तहसील दार के चैंबर में पहुँच गया था व पैसे सौंपने ही जा रहा था तभी बहीं पर मौजूद लोकायुक्त की टीम ने उसे प्रदेश के मंत्री गोरीशंकर शेजवार के रिशतेदार तहसील दार मंदेरिया को पैसे देते वक्त धर दवोचा एवं फरियादी प्रवीण से प्राप्त रिकॉर्डिंग के अनुसार दलाल एवं तहसीलदार के खिलाफ कार्यवाही की , उल्लेखनीय है कि राजस्व विभाग में भ्र्ष्टाचार का खुला खेल चल रहा है , अभी ऐसे कई और अधिकारी ,पटवारी ,बाबू हैं जो खुले आम अपनी कुर्सी पर ही लेन देन कर लेते हैं कुछ ने तो बाकायदा अपने दलाल सक्रीय कर रखे हैं जो थाना ,कोर्ट ,कचहरी तक इन अधिकारियों की सेटिंग करवाते हैं , शर्मसार कर देने बाली बात तो यह है कि इस प्रकार की सेटिंग में रिश्वत के अलावा ,पार्टी एवं गर्म गोश्त तक की व्यवस्थाएं की जाती हैं , कुछ छुटभैये नेता भी दलाली के इस खेल में अधिकारियों के रंग में रंगे हुए हैं जिनकी मिली भगत से राजस्व विभाग में भ्र्ष्टाचार का नंगा नाच बेरोक टोक चल रहा है पताचला है कि इस खेल में उप्र तक की हिस्सेदारी तय रहती है , इसलिए प्रशासन का कोई अधिकारी इनकी तरफ आँख उठा कर भी देखने की जुर्रत नहीं करता , पिसती है आम जनता , जो इस प्रकार के रिश्वत अधिकारी की हर प्रकार से सेवा करने को मजबूर है .बहीं दूसरी और तहसीलदार के सूत्रों के अनुसार यह एक साजिश है जिसके तहत उन्हें फसाया गया है तथा वे जांच के दौरान अपना पक्ष रखने की बात भी कह रहे है.

शैलेन्द्र सक्सेना – संपादक गंज बासौदा सिटी पोर्टल

Print Friendly

    Share


Facebook Page
Power Cut
अघोषित कटौती कुल 1 घंटे किसी भी समय

Check Your PNR

Ganjbasoda Poll

क्या गंजबासौदा जिला बनेगा ?

View Results

Loading ... Loading ...
:: Advertisement ::
:: Advertisement ::
:: Cricket Live Score ::
RDestWeb